ठिकाना नहीं कि तुझ से कहें!

क़ासिदा हम फ़क़ीर लोगों का,
इक ठिकाना नहीं कि तुझ से कहें|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply