दुख फ़साना नहीं कि तुझसे कहें!

दुख फ़साना नहीं कि तुझसे कहें,
दिल भी माना नहीं कि तुझ से कहें|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply