दोस्ताना नहीं कि तुझसे कहें!

बे-तरह हाल-ए-दिल है और तुझसे,
दोस्ताना नहीं कि तुझसे कहें|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply