अभी शहर में ज़िंदा है कि तुम हो!

आबाद हम आशुफ़्ता-सरों से नहीं मक़्तल,
ये रस्म अभी शहर में ज़िंदा है कि तुम हो|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply