किसी और का चेहरा है कि तुम हो!

देखो ये किसी और की आँखें हैं कि मेरी,
देखूँ ये किसी और का चेहरा है कि तुम हो|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply