कोई और है दुनिया है कि तुम हो!

इस दीद की साअत में कई रंग हैं लर्ज़ां,
मैं हूँ कि कोई और है दुनिया है कि तुम हो|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply