तन्हा कोई हम सा है कि तुम हो!

वो वक़्त न आए कि दिल-ए-ज़ार भी सोचे,
इस शहर में तन्हा कोई हम सा है कि तुम हो|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply