दरिया है कि तुम हो!

इक दर्द का फैला हुआ सहरा है कि मैं हूँ,
इक मौज में आया हुआ दरिया है कि तुम हो|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply