मुझको यही लगता है कि तुम हो!

ये उम्र-ए-गुरेज़ाँ कहीं ठहरे तो ये जानूँ,
हर साँस में मुझको यही लगता है कि तुम हो|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply