शीरीं है कि लैला है कि तुम हो!

हर बज़्म में मौज़ू-ए-सुख़न दिल-ज़दगाँ का,
अब कौन है शीरीं है कि लैला है कि तुम हो|

अहमद फ़राज़

Leave a Reply