तूफ़ान का रुख़ मोड़ देता है!

जहाँ दरिया कहीं अपने किनारे छोड़ देता है,
कोई उठता है और तूफ़ान का रुख़ मोड़ देता है|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply