मेरा दस्त-ए-दुआ’ अकेला था!

बख़्शिश-ए-बे-हिसाब के आगे,
मेरा दस्त-ए-दुआ’ अकेला था|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply