करते हैं आज़ादाना हम!

क़ैद होकर और भी ज़िंदाँ में उड़ता है ख़याल,
रक़्स ज़ंजीरों में भी करते हैं आज़ादाना हम|

अली सरदार जाफ़री

Leave a Reply