मेहर-ओ-माह को पैमाना हम!

या जगा देते हैं ज़र्रों के दिलों में मय-कदे,
या बना लेते हैं मेहर-ओ-माह को पैमाना हम|

अली सरदार जाफ़री

Leave a Reply