इक तमन्ना सताती रही रात भर!

एक उम्मीद से दिल बहलता रहा,
इक तमन्ना सताती रही रात भर|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply