कोई क़िस्सा सुनाती रही रात भर!

फिर सबा साया-ए-शाख़-ए-गुल के तले,
कोई क़िस्सा सुनाती रही रात भर|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply