कोई तस्वीर गाती रही रात भर!

कोई ख़ुशबू बदलती रही पैरहन,
कोई तस्वीर गाती रही रात भर|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply