झिलमिलाती रही रात भर!

गाह जलती हुई गाह बुझती हुई,
शम-ए-ग़म झिलमिलाती रही रात भर|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply