हर सदा पर बुलाती रही रात भर!

जो न आया उसे कोई ज़ंजीर-ए-दर,
हर सदा पर बुलाती रही रात भर|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

Leave a Reply