तब तक गीत सुनाएँगे!

तन्हा तन्हा दुख झेलेंगे महफ़िल महफ़िल गाएँगे,
जब तक आँसू पास रहेंगे तब तक गीत सुनाएँगे|

निदा फ़ाज़ली

2 Comments

Leave a Reply