थोड़ा मुक़द्दर तलाश कर!

कोशिश भी कर उमीद भी रख रास्ता भी चुन,
फिर इसके बा’द थोड़ा मुक़द्दर तलाश कर|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply