फिर घर तलाश कर!

रहता नहीं है कुछ भी यहाँ एक सा सदा,
दरवाज़ा घर का खोल के फिर घर तलाश कर|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply