वो लश्कर तलाश कर!

तारीख़ में महल भी है हाकिम भी तख़्त भी,
गुमनाम जो हुए हैं वो लश्कर तलाश कर|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply