हाथ में नहीं है वो पत्थर तलाश कर!

नज़दीकियों में दूर का मंज़र तलाश कर,
जो हाथ में नहीं है वो पत्थर तलाश कर|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply