घर में कई आफ़्ताब रखते हैं!

हमें चराग़ समझ कर बुझा न पाओगे,
हम अपने घर में कई आफ़्ताब रखते हैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply