चेहरों पे दोहरी नक़ाब रखते हैं!

दिलों में आग लबों पर गुलाब रखते हैं,
सब अपने चेहरों पे दोहरी नक़ाब रखते हैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply