लोग कि जो हर्फ़-आशना भी नहीं!

बहुत से लोग कि जो हर्फ़-आशना भी नहीं,
इसी में ख़ुश हैं कि तेरी किताब रखते हैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply