लोग तो आँखों में ख़्वाब रखते हैं!

हमारे शहर के मंज़र न देख पाएँगे,
यहाँ के लोग तो आँखों में ख़्वाब रखते हैं|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply