शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए!

अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए,
कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply