आसमाँ से बरस रहा है ख़ून!

छतरियाँ तान लें जो पानी हो,
आसमाँ से बरस रहा है ख़ून|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply