छूटने को तरस रहा है ख़ून!

क़ैद इतने बरस रहा है ख़ून,
छूटने को तरस रहा है ख़ून|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply