आँसुओं की तरह झडे हैं पेड़!

कौन आया था किससे बात हुई,
आँसुओं की तरह झडे हैं पेड़|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply