कुछ हैं छोटे तो कुछ बड़े हैं पेड़!

अपनी दुनिया के लोग लगते हैं,
कुछ हैं छोटे तो कुछ बड़े हैं पेड़|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply