परचमों की तरह गड़े हैं पेड़!

जीत कर कौन इस ज़मीं को गया,
परचमों की तरह गड़े हैं पेड़|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply