साल हा साल से खड़े हैं पेड़!

क्या ख़बर इंतिज़ार है किसका,
साल हा साल से खड़े हैं पेड़|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply