हाल पूछा तो रो पड़े हैं पेड़!

बाग़बाँ हो गये लकड़हारे,
हाल पूछा तो रो पड़े हैं पेड़|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply