बीमार उजालों पे हँसी आती है!

चाँदनी रात मोहब्बत में हसीं थी “फ़ाकिर”,
अब तो बीमार उजालों पे हँसी आती है|

सुदर्शन फ़ाकिर

Leave a Reply