मिसालों पे हँसी आती है!

अहल-ए-उल्फ़त के हवालों पे हँसी आती है,
लैला मजनूँ की मिसालों पे हँसी आती है|

सुदर्शन फ़ाकिर

Leave a Reply