मजबूरी-ए-हालात ने रोने न दिया!

रोनेवालों से कह दो उनका भी रोना रो लें,
जिनको मजबूरी-ए-हालात ने रोने न दिया|

सुदर्शन फ़ाकिर

Leave a Reply