रोज़ के सदमात ने रोने न दिया!

एक दो रोज़ का सदमा हो तो रो लें “फ़ाकिर”,
हमको हर रोज़ के सदमात ने रोने न दिया|

सुदर्शन फ़ाकिर

Leave a Reply