उठती है वो बात न लिखने पाऊँ!

बस क़लम-बंद किए जाऊँ मैं उनकी हर बात,
दिल से जो उठती है वो बात न लिखने पाऊँ|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply