उनकी मगर मात न लिखने पाऊँ!

जीत पर उनकी लगा दूँ मैं क़सीदों की झड़ी,
मात को उनकी मगर मात न लिखने पाऊँ|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply