मिरे हाथ न लिखने पाऊँ!

सोच तो लेता हूँ क्या लिखना है पर लिखते समय,
काँपते क्यूँ है मिरे हाथ न लिखने पाऊँ|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply