वक़्तों के ख़यालात न लिखने पाऊँ!

ख़ुद को माज़ी में रखूँ हाल में रहते हुए भी,
नए वक़्तों के ख़यालात न लिखने पाऊँ|

राजेश रेड्डी

2 Comments

Leave a Reply