हालात न लिखने पाऊँ!

दिन को दिन रात को मैं रात न लिखने पाऊँ,
उनकी कोशिश है कि हालात न लिखने पाऊँ|

राजेश रेड्डी

Leave a Reply