किनारों ने भी दिल तोड़ दिया है!

तूफ़ान का शेवा तो है कश्ती को डुबोना,
ख़ामोश किनारों ने भी दिल तोड़ दिया है|

महेश चंद्र नक़्श

Leave a Reply