किसी के आज जो गेसू बिखर गए!

नैरंगियाँ चमन की पशेमान हो गईं,
रुख़ पर किसी के आज जो गेसू बिखर गए|

महेश चंद्र नक़्श

Leave a Reply