ज़िंदगी जो इस तरह मुश्किल न हो!

चाहता हूँ मैं ‘मुनीर’ इस उम्र के अंजाम पर,
एक ऐसी ज़िंदगी जो इस तरह मुश्किल न हो|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply