पता सफ़र में हवा ने नहीं दिया!

मंज़िल है उस महक की कहाँ किस चमन में है,
उसका पता सफ़र में हवा ने नहीं दिया|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply