वक़्त हम को ज़माने नहीं दिया!

कुछ वक़्त चाहते थे कि सोचें तिरे लिए,
तूने वो वक़्त हम को ज़माने नहीं दिया|

मुनीर नियाज़ी

Leave a Reply